ये हैं भ्रामरी प्राणायाम करने के फायदे

भ्रामरी प्राणायाम को हमिंग बी ब्रीदिंग तकनीकी के नाम से भी जाना जाता है। यह बेहद फायदेमंद और असरदार योगासन है। इसके अभ्यास से मस्तिष्क शांत होता है। अगर आपको तनाव है, अवसाद है या फिर आपको बहुत अधिक गुस्सा आता है तो यह आसन आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा। अगर आप विद्यार्थी हैं या फिर ऑफिस और घर की जिम्मेदारियों को संभालते-संभालते तनाव महसूस करने लगे हैं तो यह आसन आपके लिए बहुत उपयोगी रहेगा।

भ्रामरी प्राणायाम करने की विधि –

एक समतल पर शांत, प्राणायाम की मुद्रा में बैठ जाएं। आंखों को बंद कर लें।  दोनों हाथों की अनामिका उंगली से अपने कान बंद कर लें।  एक लंबी गहरी सांस लें। इसके बाद बिना मुंह खोले भ्रमर की आवाज़ निकालें। धीरे-धीरे सांस बाहर छोड़ें।

 इसी प्रक्रिया को 6-7 बार दोहराएं। इसके बाद अंगूठे की मदद से कान बंद करें और चारों उंगलियों को चेहरे पर रखें।

भ्रामरी प्राणायाम के फायदे –

भ्रामरी प्राणायाम से तनाव, गुस्सा और अवसाद दूर होता है।

 भ्रामरी प्राणायाम करने से दिमाग शांत होता है।

अगर आपको माइग्रेन की समस्या है तो भी यह आपके लिए फायदेमंद है।

विद्यार्थियों के लिए यह खासतौर पर फायदेमंद है। इससे दिमाग मजबूत होता है और ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *