बांध भूमि अधिकृत हेतु मुआवजा व समयसीमा तय करें सरकार : महापंचायत

गुडगाँव। सरकार द्वारा प्रस्तावित दिल्ली हरियाणा के बिच नजफगढ़ ड्रेन पर 100 एकड़ में बनने वाले बांध भूमि अधिग्रहण के लिए प्रभावित किसानों द्वारा आज धनकोट गांव में महापंचायत करते हुए अपनी सहमती जताई। आज की पंचायत की अध्यक्षता परिवर्तन संघ के अध्यक्ष राकेश दोल्ताबाद द्वारा की गई, जिन्होंने पिछले 40 वर्षो से ड्रेन के पानी में डूबी करीब साढ़े 5 हजार एकड़ भूमि का मुद्दा सोशल मिडिया पर उठाते हुए आज क्षेत्र के किसानों को एकजुट करने का कार्य किया और भूमि अधिग्रहण के लिए शर्तों के आधार पर जमीन दिलाने पर सहमती दिलाई। महापंचायत में लोगों ने कहा कि गुड$गांव तथा मानेसर में बने फ्लेटों से सरकार करोड़ों रूपये टेक्स वसूलती है, लेकिन उन्ही फ्लेटों से करोड़ों टन में मल व कचरा ड्रेन के माध्यम नजफगढ़ ड्रेन में छोड़ा जाता है, जोकि किसानों की उपजाऊ भूमि को पानी में डुबो देती है और फसल उगाने वाली जमीन को खराब कर देती है। लोगों ने मांग क रते हुए कहा कि एसटीपी प्लांट लगाये जाएं, जिसके बाद उस पानी को ड्रेन में छोड़ा जाएं, ताकि उस पानी का आगे जाकर सही प्रयोग हो सके। योगेन्द्र यादव समर्थक ने पहुंचते हुए कहा कि यदि सरकार इस बात को नही सुनेगी तो देश के सबसे बड़े वकील प्रशांत भूषण इस केश को कोर्ट मे किसानों के हक में मुफ्त में लड़ेगें। परिवर्तन संघ के अध्यक्ष राकेश दोल्ताबाद ने कहा कि जल्द इस मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल तथा हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के साथ प्रभावित किसानों के साथ मिलकर मुलाकात करेगें। इसके लिए एक कमेठी भी गठीत की जायेगी और अपनी मांगों का ज्ञापन सरकार को सौपेगें। धनकोट में आयोजित महापंचायत में ड्रेन के लिए अधिकृत की जाने वाली भूमि के किसानों ने अपनी मांगे रखते हुए कहा कि सरकार इस प्रस्ताव को विधानसभा में विशेष अधिवेशन लाकर प्रमुखता से उठाये और अगले 3 महीने में सर्कल रेट से चार गुणा रेट पर भूमि अधिकृत करते हुए किसानों को राहत दिलाने का कार्य करे। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को राजनेतिक नही बनने दिया जाएगा। आज केवल प्रभावित किसान ही इस महापंचायत में एकत्रित हुए है, अगली बैठक में हजारों की संख्या में लोग जुटेगें। महापंचायत में भवानी एन्क्लेव के टूटे मकानों के पीडि़तों की एकता की मिशाल पेश करते हुए अपनी मांग मनवाने की बातें कही गई। किसानों ने साफ कर दिया कि सरकार प्रस्तावित बांध प्रकिया के लिए अधिकृत की जाने वाली भूमि के सर्किल रेट से चार गुणा और समयसीमा तय करते हुए घोषणा कर कार्य आरम्भ करें। इस मौके पर चंदु, धनकोट, खेड$की, दोल्ताबाद, मोहम्मदहेड़ी, धर्मपुर, माक्डौला सहित विभिन्न गांव के किसान एकजुट हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *