पाश्चात्य संस्कृति ने भारत का बहुत बड़ा नुकसान किया: सुदर्शन

गुरूग्राम। दिल्ली मेट्रो के उप मुख्य अभियंता सुदर्शन कुमार ने कहा कि बदलते परिवेश  में पूरी दुनियां भारत की ओर निहार रही है क्योंकि भारत के उत्थान में ही विश्व का कल्याण समाहित है। भारत तेजी से विश्व के नेतृत्व करने की दिशा मैं बढ़ रहा है। श्री सुदर्शन वजीर पुर मैं रास्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संपर्क विभाग के तत्वावधान आयोजित भारतीय नव वर्ष चैत्र शुक्ल प्रतिपदा के उपलक्ष्य में आयोजित महोत्सव में मुख्य वक्ता के रूप में बोल रहे थे।
उनोहने कहा कि भारत की सनातन संस्कृति व् परंपराएं सर्व मंगलकारी है। इसलिए आधुनिकता के नाम पर पाश्चात्य संस्कृति ने भारत का बहुत बड़ा नुकसान किया है।हमें अपने देश के उत्थान के लिए राष्ट्र के प्रति अपने कर्तव्य का निष्ठा से पालन करना होगा। भारतीय सृजनकारी नव वर्ष जैसी परम्पराओ  को पुनः आत्मसात करना होगा। इससे पूर्व भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम ने वहां मौजूद लोगो को देशभक्ती से सराबोर कर दिया। गीत , संगीत, रागनी, नृत्य सभी कुछ तो वहां था। हरियाणा कला परिषद की बालिका भूमिका ने जब “ऐ मेरे वतन के लोगो जरा आँख में भरलो पानी”  गीत गाया तो श्रद्धा से हर किसी की आँखे नम थी। मलखान सिंह के  भजनों ने भी लोगो को अंत तक बांधे रखा। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे समाज से  धर्म सिंह व् आरएसएस संघ चालक प्रताप यादव ने भी कहा के आज का ये कार्यक्रम समाज को दिशा देने वाला साबित होगा। मंच संचालन जिला संपर्क प्रमुख शिव दत्त ने किया।
 इस अवसर पर डेरी परिसंघ के अध्यक्ष जी एल शर्मा, गुरुग्राम मार्केट कामेटिवके चैयरमेन डा.सत्य प्रकाश कश्यप,  आरएसएस विभाग प्रचारक शिव कुमार, विभाग कार्यवाह श्याम सुंदर, विभाग संपर्क प्रमुख प्रदीप शर्मा, विभाग प्रचार प्रमुख अनिल कश्यप, संस्कार भारती के प्रांतीय अध्यक्ष मेजर दिन दयाल, समाज सेवी प्रदीप खटाना, भाग संघचालक वेद मंगला, जगदीश ग्रोवर, जिला कार्यवाह हरीश शर्मा, सह कार्यवाह ब्रर्जेस चौहान आदि बडी संख्या में लोग मौजूद थे।
20170326_174615

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *