गुरुग्राम जिला में जन कल्याण एवं सुरक्षा सर्वे का डाटा बेस पूरी तरह से पेपरलैस होगा

गुरुग्राम। गुरुग्राम जिला में जन कल्याण एवं सुरक्षा सर्वे का डाटा बेस पूरी तरह से पेपरलैस होगा जिसमें कागज का कतई इस्तेमाल नही किया जाएगा। यह सारा डाटा ऑनलाइन फीड किया जाएगा। यह डाटा इसलिए तैयार किया जा रहा है ताकि सरकार योग्य लाभपात्रों के अनुरूप विकास की योजनाएं बना सके और उसका लाभ समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचा सके ।
इस बारे में जानकारी देते हुए जन कल्याण एवं सुरक्षा सर्वे की नोडल अधिकारी एवं गुरुग्राम जिला परिषद् की मुख्य कार्यकारी अधिकारी चिनार चहल ने बताया कि यह डाटा प्रदेश के विकास की रूपरेखा तैयार करने में काम आएगा। इससे प्रदेश के विभिन्न वर्गों के लोगों का सामाजिक उत्थान होगा। इस डाटा को पूरी तरह से कॉन्फीडेशनल रखा जाएगा। यह सर्वे जिला में जल्द ही शुरू किया जाएगा। गुरुग्राम जिला में जन कल्याण एवं सुरक्षा सर्वे के तहत डाटा एकत्रित करने के लिए जिला मे 784 प्रगणक, 52 सुपरवाइजऱ, 52 मास्टर टे्रनर तथा 10 इंचार्ज की नियुक्ति की गई है। सर्वे को लेकर मास्टर ट्रेनरों द्वारा प्रगणकों को ट्रेनिंग दी जा रही है। सुश्री चहल ने बताया कि यह सर्वे मोबाइल एप के जरिए किया जाएगा जिसके तहत प्रगणक घर-घर जाकर लोगों से उसका आधार नंबर, आय, मोबाइल नंबर, धर्म, डोमिसाइल, उम्र, परिवार में सदस्यों की संख्या, पता आदि सहित कई जानकारी एकत्रित करेंगे। इस सर्वे का उद्द्ेश्य सरकार की योजनाओं से सीधे आम नागरिक को जोडन$ा है ताकि देश के अंतिम व्यक्ति तक इन योजनाओं का लाभ पहुंचाया जा सके। सर्वे के लिए ग्रुप-सी के कर्मचारी तथा इंचार्ज गु्रप-बी के अधिकारियों को लगाया गया है। प्रगणकों के साथ एक-एक सक्षम युवा भी लगाए जाने है जो सर्वे में प्रगणकों की मदद करेंगे। जन कल्याण एवं सुरक्षा सर्वे की मॉनीटरिंग के लिए लघु सचिवालय में कंट्रोल रूम भी बनाया गया है। सर्वेक्षण के लिए बायोमैट्रिक मशीने भी आ चुकी है जिस पर प्रगणक अपने अंगूठे का निशान लगाकर डाटा फीड करेगा। गुरुग्राम जिला में सर्वे को तीन माह की समयावधि में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है जिसके लिए इनुमरेशन ब्लॉक भी बनाए गए हैं। उन्होंने सर्वे को लेकर आम जन से अपील करते हुए कहा कि वे सर्वे पूरा करने के लिए प्रगणकों का सहयोग करें और उन्हें वंाछित सूचना उपलब्ध करवाएं। सर्वे को पूरा करवाने के लिए सुश्री चहल ने सामाजिक संगठनों एवं संस्थाओं का आह्वान करते हुए कहा कि वे लोगों को सर्वे के लाभ के बारे में बताएं क्योंकि भविष्य में इसका लाभ आमजन को ही मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *